आमतौर पर सभी सब्ज़ियां और फल सेहत को लाभ पहुंचाते हैं लेकिन गर्भावस्था के दौरान कुछ चीज़ों से दूर रहना चाहिए।

1. गर्भावस्था में शराब का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए। शराब पीने से वक्त से पहले डिलिवरी, बौद्धिक विकलांगता, जन्म के समय डिफेक्ट और बच्चे का वज़न कम होना, जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

2. सब्ज़ियों को अक्सर सुरक्षित माना जाता है और ये संतुलित आहार के लिए ज़रूरी भी हैं। हालांकि, इसे पकाने से पहले सुनिश्चित करें कि इसे अच्छी तरह धोया गया हो ताकि टैक्सोप्लाज़मोसिज़ से बचा जा सके

3. समुद्री खाने और मुर्गी को अच्छी तरह पका कर ही खाएं, क्योंकि इसे अधपका खाने से कोलीफॉर्म बैक्टीरिया के साथ टैक्सोप्लाज़मोसिज़ और साल्मोनेला का भी ख़तरा बढ़ जाता है।

4. ऐसी मछली न खाएं जिनमें मरकरी की मात्रा ज़्यादा हो। मरकरी के सेवन से गर्भावस्था के दौरान; बच्चे का धीमा विकास और मस्तिष्क से जुड़ी दिक्कते देखी गई हैं।

5. पहले ट्राइमिस्टर के दौरान कैफीन के सेवन से भी दूर रहें। कैफीन का सेवन गर्भपात का जोखिनम बढ़ा सकता है। प्रेग्नेंसी में कैफीन का सेवन 200 मिलीग्राम प्रति दिन से कम होना चाहिए। कैफीन एक मूत्रवर्धक है,

6. गर्भावस्था के दौरान सैकरीन का उपयोग ग़लती से भी नहीं करना चाहिए। यह स्पष्ट नहीं है कि इस स्वीटनर का उपयोग करना सुरक्षित है या नहीं, क्योंकि यह नाल को पार कर सकता है और आपके बच्चे के ऊतक में रह सकता है।

7. आप रोज़ाना कुल जितनी वसा लेते हैं, उसमें से 30 प्रतिशत कैलोरी को घटा दें। प्रतिदिन 2000 कैलोरी खाने वाले व्यक्ति के लिए, 65 ग्राम वसा या उससे कम हो जाएगी।

8. प्रति दिन 300 मिलीग्राम या उससे कम कोलेस्ट्रॉल लें। मूल रूप से, बैक्टीरिया युक्त खाद्य पदार्थों से बचना ज़रूरी है, जो आपमें और आपके नवजात शिशु में संक्रमण या स्टिलबर्थ जैसी समस्याएं पैदा कर सकता है।